Ranjha Lyrics

Mahabharat Doha lyrics in Hindi-Ranjha quotes

Mahabharat Doha lyrics in Hindi

Mahabharat Doha lyrics in Hindi-Ranjha quotes

Mahabharat Doha lyrics in Hindi-Ranjha quotes-  Mahendra Kapoor ke top 20 Mahabharat Doha lyrics in Hindi-Ranjha quotes, Mahabharat Doha in Hindi, Mahabharat Doha ringtone, Mahabharat Doha status
Mahabharat Doha ringtone download, Mahabharat Doha by Mahendra Kapoor, Mahendra Kapoor Mahabharat Doha lyrics, Mahabharat Doha lyrics, Mahendra Kapoor Mahabharat Doha, Mahabharat Doha Mahendra Kapoor, Mahabharat Doha mp3 download Pagalworld, Mahabharat Doha mp3 download

Mahabharat Doha lyrics in Hindi-Ranjha quotes

 

Ranjhalyrics.com

क्रुद्ध सर्पिनी बन गयी सुन्दर उपवन बेल | 
दोष किसी का क्या भला भाग्ये खिलाये खेल || 

Ranjhalyrics.com 1

 

चन्द्रवंश के चंद्र का असमय यह अवसान | 
सिंघासन सुना हुआ राजभवन सुनसान || 

 

Ranjhalyrics.com 3

 

माता यह संभव नहीं भीष्म करे व्रत त्याग | 
चाहे शीतल सूर्य हो बरसे शशि से आग || 

Ranjhalyrics.com 4

 

जीवन दाता एक है समदर्शी भगवान
जैसी जिसकी पात्रता वैसा जीवन दान |
तमस रजस सद्रुणवती माता प्रकृति प्रधान 
जैसी जननी भावना वैसी ही संतान || 

Ranjhalyrics.com 5

 

सत्यवती की साधना भीष्मवृत्ति का त्याग |
जागे जिनके जतन से भरतवंश के भाग ||  

Ranjhalyrics.com 6

 

धीर धुरंधर भीष्म का शिष्य धनुर्धर वीर | 
उदित हुआ फिर चन्द्रमा अन्धकार को चिर || 

Ranjhalyrics.com 7

 

दे हंसकर वर को विदा वीर वधु की रीत | 
राजधर्म की नित ये क्षत्राणी की प्रीत || 

 

Ranjhalyrics.com 8

दे अशीष ऋषि देव ने तुम्हे सदा वरदान | 
गोद भरे जुग जुग जिए भाग्यवंत संतान || 

Ranjhalyrics.com 9

सुख दुःख में समरस रहे जीवन वही महान | 
राजभवन या वनगमन दोनों एक समान || 

Ranjhalyrics.com 10

समय भूमि गोपाल की भूले जब संसार | 
धार सुदर्शन चक्र की हरे भूमि का भार || 

Ranjhalyrics.com 11

नारी तेरे दुःख में नारायण दुखमंत | 
रो मत तेरी कोक में आएंगे भगवंत || 

ranjhalyrics 12

अंतवंत छः दीप हैं सप्तम दीप अनंत |
दो आंचल के दीप हैं बलदाउ बलवंत ||

Ranjhalyrics.com 13

कृष्ण पक्ष की अष्टमी अर्धरात्रि बुधवार 
कारागृह में कंस के भयो कृष्ण अवतार |
सिंह राशि के सूर्य है उदित उच्च के चंद्र
देवन दीन्हि दुंदुभि, तार मध्य स्वर मन ||

Ranjhalyrics.com 14

मेघ निछावर हो रहे बरसे सौ सौ धार
दमक दमक दामिनी कहे देखौं मुख एक बार | 
छत्र बन्यौ ब्रजराज हित फ़न फैलाए नाग
मथुरा तेरे त्याग से जागे ब्रज के भाग || 

Ranjhalyrics.com 15

जाने जमुना जग नहीं श्री हरी को अवतार
पावन पद परसन चढ़ी बढ़ी जमुन जल धार | 
धार मध्य वसुदेव जब अकुलाए असहाय
श्री हरी ने रवि सुताये हित दियो चरण लटकाए || 

Ranjhalyrics.com 16

चली कुमारी नंदिनी आए नंद कुमार |
त्याग बिना संभव नहीं जीव जगत उद्धार ||

Ranjhalyrics.com 17

अत्याचारी कंस की कुमति बनी तलवार |
अंत तुझे खा जाएगा तेरा अत्याचार ||

Ranjhalyrics.com 18

दया धर्म जब जब घटे बढ़े पाप अभिमान |
तब तब जग में जन्म ले जग पालक भगवान ||

Ranjhalyrics.com 19

धीर धरो माँ देवकी दूर न दिन सुख मूल |
अश्रु बनेंगे जननी के कल्पलता के फूल ||

Ranjhalyrics.com 20

मारक संहारक नहीं उद्धारक श्रीनाथ
सदगती पाई असुर ने मर कर हरी के हाथ |
कुमति गई पाई सुमति अहम् बन गया हंस
नारायण जी के दर्शन हुए शांत हो गया कंस ||

 

 

error: Content is protected !!