Pahile Pahile Baani Kaile Chhathi Maiya lyrics

Pahile Pahile Baani Kaile Chhathi Maiya lyrics

Pahile Pahile Baani Kaile Chhathi Maiya lyrics: इससे पहले कि हम गीत के Lyrics के बारे में बताएं। आइए छठ पूजा के महत्व को समझें। यह प्राचीन हिंदू त्योहार मुख्य रूप से भारत के उत्तरी क्षेत्रों, विशेषकर बिहार, झारखंड और उत्तर प्रदेश में मनाया जाता है। छठ पूजा, जिसे सूर्य षष्ठी के नाम से भी जाना जाता है, पृथ्वी पर जीवन को बनाए रखने के लिए सूर्य देव के प्रति आभार व्यक्त करने के लिए मनाया जाता है। भक्तों का मानना है कि सूर्य भगवान उनकी मनोकामनाएं पूरी करते हैं और उन्हें समृद्धि और दीर्घायु प्रदान करते हैं।अब उसके बोल की और चलते हैं।
[table id=13 /]

Pahile Pahile Baani Kaile Chhathi Maiya lyrics

पहिले पहिले हम कईनी
छठी मईया व्रत तोहार
छठी मईया व्रत तोहार
करिह क्षमा छठी मईया
भूल चुक गली हमार
भूल चुक गली हमार

गोदी के बलकवा के दिह
छठी मईया ममता दुलार
छठी मईया ममता दुलार
पिया के सनेहिया बनहिय
मईया दिह सुख सार
मईया दिह सुख सार

नारियर केरवा घोउदवा
साजल नदिया किनार
साजल नदिया किनार
सुनिह अरज छठी मईया
बढ़े कुल परिवार
बढ़े कुल परिवार

घाट सजावाली मनोहर
मईया तोर भगति आपार
मईया तोर भगति आपार
लिहिएं अरगिया हे मईया
दिहीं आशीष हजार
दिहीं आशीष हजार

पहिले पहिले हम कईनी
छठी मईया व्रत तोहार
छठी मईया व्रत तोहार
करिह क्षमा छठी मैया
भूल चुक गली हमार
भूल चुक गली हमार
भूल चुक गली हमार